Print Friendly
आप अपने गिरेबां में झांकिए क्या आप अपने जीवनसाथी के लिए ऐसी कोशिश कर सकते हैं?

आप अपने गिरेबां में झांकिए क्या आप अपने जीवनसाथी के लिए ऐसी कोशिश कर सकते हैं?

एक जापानी अपने मकान की मरम्मत के लिए
उसकी दीवार को खोल रहा था। ज्यादातर
जापानी घरों में लकड़ी की दीवारो के बीच जगह
होती है।
जब वह लकड़ी की इस दीवार को उधेड़
रहा तो उसने देखा कि वहां दीवार में एक
छिपकली फंसी हुई थी। छिपकली के एक पैर में
कील ठुकी हुई थी। उसने यह देखा और उसे
छिपकली पर रहम आया। उसने इस मामले में
उत्सुकता दिखाई और गौर से उस छिपकली के पैर
में ठुकी कील को देखा।
अरे यह क्या! यह तो वही कील है जो दस साल
पहले मकान बनाते वक्त ठोकी गई थी।
यह क्या !!!!
क्या यह छिपकली पिछले दस सालों से
इसी हालत से दो चार है?
दीवार के अंधेरे हिस्से में बिना हिले-डुले पिछले
दस सालों से!! यह नामुमकिन है। मेरा दिमाग
इसको गवारा नहीं कर रहा।
उसे हैरत हुई। यह छिपकली पिछले दस सालों से
आखिर जिंदा कैसे है!!! बिना एक कदम हिले-डुले
जबकि इसके पैर में कील ठुकी है!
उसने अपना काम रोक दिया और उस
छिपकली को गौर से देखने लगा।
आखिर यह अब तक कैसे रह पाई और क्या और
किस तरह की खुराक इसे अब तक मिल पाई।
इस बीच एक दूसरी छिपकली ना जाने कहां से
वहां आई जिसके मुंह में खुराक थी।
अरे!!!!! यह देखकर वह अंदर तक हिल गया। यह
दूसरी छिपकली पिछले दस सालों से इस फंसी हुई
छिपकली को खिलाती रही।
जरा गौर कीजिए वह दूसरी छिपकली बिना थके
और अपने साथी की उम्मीद छोड़े बिना लगातार
दस साल से उसे खिलाती रही।
आप अपने गिरेबां में झांकिए क्या आप अपने
जीवनसाथी के लिए ऐसी कोशिश कर सकते हैं?
सोचिए क्या तुम अपनी मां के लिए ऐसा कर सकते
हो जो तुम्हें नौ माह तक परेशानी पर
परेशानी उठाते हुए अपनी कोख में लिए-लिए
फिरती है?
और कम से कम अपने पिता के लिए, अपने भाई-
बहिनों के लिए या फिर अपने दोस्त के लिए?
गौर और फिक्र कीजिए अगर एक छोटा सा जीव
ऐसा कर सकता है तो वह जीव
क्यों नहीं जिसको ईश्वर ने सबसे ज्यादा अक्लमंद
बनाया है?

Print Friendly

About author

Vijay Gupta
Vijay Gupta1097 posts

State Awardee, Global Winner

You might also like

Motivational Stories0 Comments

ये भी समझने की ज़रुरत है कि हमारा काम हमारी पहचान बना भी सकता है और बिगाड़ भी सकता है

बूढ़ा कारपेंटर अपने काम के लिए काफी जाना जाता था , उसके बनाये लकड़ी के घर दूर -दूर तक प्रसिद्द थे . पर अब बूढा हो जाने के कारण उसने


Print Friendly
Motivational Stories0 Comments

ਅਸੰਭਵ ਕੁਝ ਵੀ ਨਹੀਂ

ਪ੍ਰੇਰਕ ਪ੍ਰਸੰਗ ਅੱਸੀ ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਗੋਪਾਮਾਊ ਪਿੰਡ ’ਚ ਇੱਕ ਬੱਚੇ ਦਾ ਜਨਮ ਹੋਇਆ। ਉਸ ਦੇ ਹੱਥ ਗੁੱਟ ਕੋਲੋਂ ਜੁੜੇ ਹੋਏ ਸਨ। ਉਹ ਕਲਮ ਨਹੀਂ ਫੜ ਸਕਦਾ ਸੀ


Print Friendly
Motivational Stories0 Comments

ਦਸ਼ਾ ਤੇ ਦਿਸ਼ਾ ਬਦਲਣ ਵਾਲੇ ਪਲ

ਮੇਰੇ ਤਾੜ-ਤਾੜ ਥੱਪੜ ਵੱਜੇ। ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੀ ਗੂੰਜ ਅੱਜ ਵੀ ਮੇਰੀ ਆਤਮਾ ਸੁਣ ਸਕਦੀ ਹੈ। 1960 ਵਿਚ ਭਰ ਗਰੀਬੀ ਦੇ ਦਿਨਾਂ ਦੌਰਾਨ ਕਾਨਿਆਂ ਦੀ ਛਪਰੀ ਵਿਚ ਬੈਠੇ ਸੀ। ਮੇਰੀ ਮਾਂ ਨੇ


Print Friendly