Print Friendly
जिंदगी में कभी भी अनुशासन का, घर का , परिवार का, दोस्तों का, रिश्ता कभी मत तोड़ना

जिंदगी में कभी भी अनुशासन का, घर का , परिवार का, दोस्तों का, रिश्ता कभी मत तोड़ना

बाप पतंग उड़ा रहा था बेटा ध्यान से देख रहा था

थोड़ी देर बाद बेटा बोला पापा ये धागे की वजह से पतंग और ऊपर नहीं जा पा रही है इसे तोड़ दो

बाप ने धागा तोड़ दिया

पतंग थोडा सा और ऊपर गई और उसके बाद निचे आ गई

तब बाप ने बेटे को समझाया

बेटा जिंदगी में हम जिस उचाई पर है,
हमें अक्सर लगता है ,
की कई चीजे हमें
और ऊपर
जाने से
रोक रही है,
जैसे
घर,
परिवार,
अनुशासन,
दोस्ती,

और हम उनसे आजाद होना चाहते है,
मगर यही चीज होती है
जो हमें उस उचाई पर बना के रखती है.

उन चीजो के बिना हम एक बार तो ऊपर जायेंगे
मगर
बाद में हमारा वो ही हश्र होगा, जो पतंग का हुआ.

इसलिए जिंदगी में कभी भी
अनुशासन का,
घर का ,
परिवार का,
दोस्तों का,
रिश्ता कभी मत तोड़ना..😊

Print Friendly

About author

Vijay Gupta
Vijay Gupta1097 posts

State Awardee, Global Winner

You might also like

Motivational Stories0 Comments

एक छोटी सी प्रेरक कथा

___अतीत कभी नहीं भूला___ बिल गेटस सुबह के नाश्ते के लिए एक रेस्टोरेंट में पहुंचे। जब उन्होंने नाश्ता समाप्त कर लिया और वेटर बिल ले आया, तब उन्होंने भुगतान के


Print Friendly
Motivational Stories0 Comments

वो सोचती थी जिस दिन बेटा लायक हो जाएगा उस दिन आराम करूंगी।।

सर्दियों के मौसम में एक बूढी औरत अपने घर के कोने में ठंड से तड़फ रही थी।। जवानी में उसके पति का देहांत हो गया था घर में एक छोटा


Print Friendly
Motivational Stories0 Comments

ਅਸੰਭਵ ਕੁਝ ਵੀ ਨਹੀਂ

ਪ੍ਰੇਰਕ ਪ੍ਰਸੰਗ ਅੱਸੀ ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਗੋਪਾਮਾਊ ਪਿੰਡ ’ਚ ਇੱਕ ਬੱਚੇ ਦਾ ਜਨਮ ਹੋਇਆ। ਉਸ ਦੇ ਹੱਥ ਗੁੱਟ ਕੋਲੋਂ ਜੁੜੇ ਹੋਏ ਸਨ। ਉਹ ਕਲਮ ਨਹੀਂ ਫੜ ਸਕਦਾ ਸੀ


Print Friendly