Print Friendly
भगवान जब आपको तराश रहा हो तो, टूट मत जाना … हिम्मत मत हारना ..

भगवान जब आपको तराश रहा हो तो, टूट मत जाना … हिम्मत मत हारना ..

एक ट्रक में मारबल का सामान जा रहा था, उसमे टाईल्स भी थी , और भगवान की मूर्ती भी थी …!!

रास्ते में टाईल्स ने मूर्ती से पूछा ..

भाई ऊपर वाले ने हमारे साथ ऐसा भेद – भाव क्यों किया है …!!

मूर्ती ने पूछा कैसा भेद भाव… ???

टाईल्स ने कहा तुम भी पथ्थर मै भी पथतर ..!!
तुम भी उसी खान से निकले , मै भी..

तुम्हे भी उसी ने ख़रीदा बेचा , मुझे भी
तुम भी मन्दिर में जाओगे, मै भी …

पर वहां तुम्हारी पूजा होगी …
और मै पैरो तले रौंदा जाउंगा ऐसा क्यों??

मूर्ती ने बड़ी शालीनता से जवाब दिया,

के तुम्हे जब तराशा गया ,
तब तुमसे दर्द सहन नही हुवा ,
और तुम टूट गये टुकड़ो में बंट गये …

और मुझे जब तराशा गया तब मैने दर्द सहा , मुझ पर लाखो हथोड़े बरसाये गये , मै रोया नही…!!

मेरी आँख बनी , कान बने , हाथ बना, पांव बने ..
फिर भी मैं टूटा नही …. !!

इस तरहा मेरा रूप निखर गया …
और मै पूजनीय हो गया … !!

तुम भी दर्द सहते तो तुम भी पूजे जाते..

मगर तुम टूट गए …
और टूटने वाले हमेशा पैरों तले रोंदे जाते है… !!

भगवान जब आपको तराश रहा हो तो, टूट मत जाना …
हिम्मत मत हारना … !!
अपनी रफ़्तार से आगे बढते जाना मंजिल जरूर मिलेगी …. !!

Print Friendly

About author

Vijay Gupta
Vijay Gupta1097 posts

State Awardee, Global Winner

You might also like

Motivational Stories0 Comments

We make unnecessary comparison with others and become sad.

Once upon a time there lived a crow in the Forest and was absolutely satisfied in life. But one day he saw a swan… This swan is so white and


Print Friendly
Motivational Stories0 Comments

समाज में बेटियों की अहमियत भी कुछ इसी प्रकार की है। पूरे घर को रोशन करती झिलमिलाते हीरे की तरह।

ज़रूर पढ़ें और सयानी होती बेटियों को भी पढ़ायें। -> क्यों करता है भारतीय समाज बेटियों की इतनी परवाह… एक संत की कथा में एक बालिका खड़ी हो गई। चेहरे


Print Friendly
Motivational Stories0 Comments

सोचिये शेर ने नौकरी से किसको निकाला……

एक नन्हीं चींटी रोज अपने काम पर समय से आती थी और अपना काम अपना काम समय पर करती थी….. वे जरूरत से ज्यादा काम करके भी खूब खुश थी…….


Print Friendly