Print Friendly
ये दरवाजा उस दिन से बंद ही नहीं हुआ जिस दिन से तू गया है

ये दरवाजा उस दिन से बंद ही नहीं हुआ जिस दिन से तू गया है

एक बार एक पुत्र अपने पिता से रूठ कर घर छोड़ कर दूर चला गया | और फिर इधर उधर यूँही भटकता रहा | दिन बीते, महीने बीते और साल बीत गए | एक दिन वो बीमार पड़ गया | अपनी झोपडी में अकेले पड़े उसे अपने पीता के प्रेम की याद आई कि कैसे उसके पिता उसके बीमार होने पर उसकी सेवा किया करते थे | उसे बीमारी में इतना प्रेम मिलता था कि वो स्वयं ही शीघ्र अति शीघ्र ठीक हो जाता था | उसे फिर एहसास हुआ कि उसने घर छोड़ कर बहुत बड़ी गलती की है, वो रात के अँधेरे में ही घर की और हो लिया | जब घर के नजदीक गया तो उसने देखा आधी रात के बाद भी दरवाज़ा खुला हुआ है | अनहोनी के डर से वो तुरंत भाग कर अंदर गया तो उसने पाया की वन्ही आंगन में उसके पिता लेटे हुए हैं | उसे देखते ही उन्होंने उसका बांहे फैला कर स्वागत किया | पुत्र की आँखों में आंसू आ गए | उसने पिता से पुछा “ये घर का दरवाज़ा खुला है, क्या आपको आभास था कि मैं आऊंगा?” पिता ने उत्तर दिया “अरे पगले ये दरवाजा उस दिन से बंद ही नहीं हुआ जिस दिन से तू गया है, मैं सोचता था कि पता नहीं तू कब आ जाये और कंही ऐसा न हो कि दरवाज़ा बंद देख कर तू वापिस लौट जाये |” _____________________________________________ ठीक यही स्थिति उस परमपिता परमात्मा की है | उसने भी प्रेमवश अपने भक्तो के लिए द्वार खुले रख छोड़े हैं कि पता नहीं कब भटकी हुई कोई संतान उसकी और लौट आये | हमें भी आवश्यकता है सिर्फ इतनी कि उसके प्रेम को समझे और उसकी और अग्रसित हों |

Print Friendly

About author

Vijay Gupta
Vijay Gupta1095 posts

State Awardee, Global Winner

You might also like

Motivational Stories0 Comments

सहज़ जीवन साधना

एक निःसन्तान सेठ अपने लिए उत्तराधिकारी की तलाश में था उसने नगर के इक्छुक युवकों को बुलाया और प्रत्येक को एक बिल्ली और एक गाय दी कहा एक माह में


Print Friendly
Motivational Stories1Comments

…..नहीं…पापा नहीं…….. मुझे नहीं चाहिए मोटर साइकिल………

बड़े गुस्से से मैं घर से चला आया …. इतना गुस्सा था की गलती से पापा के जूते पहने गए …. मैं आज बस घर छोड़ दूंगा …. और तभी


Print Friendly
Motivational Stories0 Comments