Print Friendly
ये दरवाजा उस दिन से बंद ही नहीं हुआ जिस दिन से तू गया है

ये दरवाजा उस दिन से बंद ही नहीं हुआ जिस दिन से तू गया है

एक बार एक पुत्र अपने पिता से रूठ कर घर छोड़ कर दूर चला गया | और फिर इधर उधर यूँही भटकता रहा | दिन बीते, महीने बीते और साल बीत गए | एक दिन वो बीमार पड़ गया | अपनी झोपडी में अकेले पड़े उसे अपने पीता के प्रेम की याद आई कि कैसे उसके पिता उसके बीमार होने पर उसकी सेवा किया करते थे | उसे बीमारी में इतना प्रेम मिलता था कि वो स्वयं ही शीघ्र अति शीघ्र ठीक हो जाता था | उसे फिर एहसास हुआ कि उसने घर छोड़ कर बहुत बड़ी गलती की है, वो रात के अँधेरे में ही घर की और हो लिया | जब घर के नजदीक गया तो उसने देखा आधी रात के बाद भी दरवाज़ा खुला हुआ है | अनहोनी के डर से वो तुरंत भाग कर अंदर गया तो उसने पाया की वन्ही आंगन में उसके पिता लेटे हुए हैं | उसे देखते ही उन्होंने उसका बांहे फैला कर स्वागत किया | पुत्र की आँखों में आंसू आ गए | उसने पिता से पुछा “ये घर का दरवाज़ा खुला है, क्या आपको आभास था कि मैं आऊंगा?” पिता ने उत्तर दिया “अरे पगले ये दरवाजा उस दिन से बंद ही नहीं हुआ जिस दिन से तू गया है, मैं सोचता था कि पता नहीं तू कब आ जाये और कंही ऐसा न हो कि दरवाज़ा बंद देख कर तू वापिस लौट जाये |” _____________________________________________ ठीक यही स्थिति उस परमपिता परमात्मा की है | उसने भी प्रेमवश अपने भक्तो के लिए द्वार खुले रख छोड़े हैं कि पता नहीं कब भटकी हुई कोई संतान उसकी और लौट आये | हमें भी आवश्यकता है सिर्फ इतनी कि उसके प्रेम को समझे और उसकी और अग्रसित हों |

Print Friendly

About author

Vijay Gupta
Vijay Gupta1097 posts

State Awardee, Global Winner

You might also like

Motivational Stories0 Comments

never giving up! Shake it off and take a step up.

One day a farmer’s donkey fell down into a well. The animal cried piteously for hours as the farmer tried to figure out what to do. Finally, he decided the


Print Friendly
Motivational Stories0 Comments

सौ ऊंट A must read

अजय राजस्थान के किसी शहर में रहता था . वह ग्रेजुएट था और एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता था . पर वो अपनी ज़िन्दगी से खुश नहीं था ,


Print Friendly
Motivational Stories0 Comments

जरा सी खरोंच से उसका और उसके परिवार के पास कुछ नहीं रहता। बस यही अन्तर है लड़कियों और लड़कों में।

एक संत की कथा में एक बालिका खड़ी हो गई। उसके चेहरे पर आक्रोश साफ दिखाई दे रहा था। उसके साथ आए उसके परिजनों ने उसको बिठाने की कोशिश की,


Print Friendly