Print Friendly
सहारा देने वाले को जो नष्ट करता है , उसकी ऐसी ही दुर्गति होती है।

सहारा देने वाले को जो नष्ट करता है , उसकी ऐसी ही दुर्गति होती है।

एक बकरी के पीछे शिकारी कुत्ते दौड़े।

बकरी जान बचाकर अंगूरों की झाड़ीमें घुस गयी।
कुत्ते आगे निकल गए।
बकरी ने निश्चिंतापूर्वकअँगूर की बेले खानी शुरु कर दी और जमीन से लेकर अपनी गर्दन पहुचे उतनी दूरी तक के सारे पत्ते खा लिए।
पत्ते झाडी में नही रहे।
छिपने का सहारा समाप्त् हो जाने पर कुत्तो ने उसे देख लिया और मार डाला !!

सहारा देने वाले को जो नष्ट करता है ,
उसकी ऐसी ही दुर्गति होती है।
मनुष्य भी आज सहारा देने वाले पेड़ पौधो, जानवर, गाय, पर्वतो आदि को नुकसान पंहुचा रहा है, और इन सभी का परिणाम भी अनेक आपदाओ के रूप में भोग रहा है।

Print Friendly

About author

Vijay Gupta
Vijay Gupta1088 posts

State Awardee, Global Winner

You might also like

Motivational Stories1Comments

जब हम प्रभु पर सब कुछ छोड़ देते हैं, तो वह अपने हिसाब से देते हैं।

एक बार किसी देश का राजा अपनी प्रजा का हाल-चाल पूछने के लिए गाँवो में घूम रहा था। घूमते-घूमते उसके कुर्ते का बटन टूट गया। उसने अपने मंत्री को कहा


Print Friendly
Important Days0 Comments

ਅਰਥ ਆਵਰ-2015 (ਵਿਸ਼ਵ ਧਰਤੀ ਦਿਵਸ —- ਧਰਤੀ ਨੂੰ ਬਚਾਉਣ ਸਬੰਧੀ)

ਨੌਵੇਂ ਸਾਲ ’ਚ ਪ੍ਰਵੇਸ਼ ਕਰ ਰਿਹਾ ਵਾਤਾਵਰਨ ਸੁਚੇਤਨਾ ਕਦਮ ‘ਅਰਥ ਆਵਰ’ ਹਰ ਸਾਲ ਮਾਰਚ ਦੇ ਅਖ਼ੀਰਲੇ ਸ਼ਨੀਵਾਰ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਜਿਸ ਦੌਰਾਨ ਵਾਤਾਵਰਨ ਦੀ ਸ਼ਾਨ/ਸਨਮਾਨ ਹਿੱਤ ਸ਼ਾਮ 8.30 ਵਜੇ ਤੋਂ


Print Friendly

ਪੁਸਤਕਾਂ ਤੇ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਦਾ ਸੰਗ

ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਇੱਕ ਪੁਸਤਕ ਵਾਂਗ ਹੀ ਤਾਂ ਹੈ। ਇਸ ਦਾ ਹਰ ਪੰਨਾ ਬੀਤ ਰਹੇ ਦਿਨਾਂ, ਮਹੀਨਿਆਂ ਤੇ ਸਾਲਾਂ ਦੀ ਇਬਾਰਤ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਖ਼ੁਸ਼ੀ ਤੇ ਮਾਣ-ਮੱਤੇ ਪਲ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਰੂਪੀ ਪੁਸਤਕ ਦੇ ਸੁਨਹਿਰੀ ਪੰਨਿਆਂ


Print Friendly