Print Friendly
सहज़ जीवन साधना

सहज़ जीवन साधना

एक निःसन्तान सेठ अपने लिए उत्तराधिकारी की तलाश में था उसने नगर के इक्छुक युवकों को बुलाया और प्रत्येक को एक बिल्ली और एक गाय दी कहा एक माह में बिल्ली को इतना दूध पिला के तृप्त कर दो क़ि जब मैं एक माह बाद उसके समक्ष दूध रखूँ वो न पिए। जिसकी बिल्ली तृप्त होगी उसे मैं अपना उत्तराधिकारी बनाऊंगा। सबने बिल्ली की खूब खातिरदारी की और उसे खिला पिला के मोटा तन्दरूस्त कर दिया और गाय की उपेक्षा कर दी।

लेकिन एक युवक ने सोचा सेठ कितना मूर्ख है गाय की सेवा न बोल के बिल्ली की सेवा करवाता है। उसने उल्टा काम किया गाय की खूब सेवा कर उसे खिला पिला के मोटा तन्द्तुस्त किया गाय ने खूब दूध दिया सारे परिवार ने आनंद से खाया और सारा परिवार तन्दरूस्त हुआ। बिल्ली को उसने सिर्फ आवशयक भोजन करवाया और उसके सामने गर्म दूध रख देता जैसे बिल्ली पीती उसके मुँह में बहुत मारता। मार खाने की वज़ह से बिल्ली दूध से डर गयी। प्रतियोगिता के दिन सबकी तन्दरूस्त बिल्लियाँ दूध पर टूट पड़ी, गाय की उपेक्षा हुई। लेकिन उस युवक की पतली दुबली बिल्ली ने दूध को मुँह भी न लगाया और वह युवक विजयी हुआ और सेठ का उत्तराधिकारी बना। उसकी गाय भी सबसे ज़्यादा स्वस्थ थी।

सेठ ने युवक से पूंछा तुमने बिल्ली के बजाय गाय की सेवा की और तुम्हारी बिल्ली तुम्हारे नियंत्रण में कैसे?
युवक ने कहा इस संसार में बिल्ली को अनावशयक खिला के सन्तुष्ट नहीँ किया जा सकता उसे सिर्फ दण्ड से नियंत्रित किया जा सकता है। गाय की सेवा से उसने ज्यादा दूध दिया जिसे खा के और दूध बेंच के मेरी आर्थिक स्थिति ठीक हुई।

मित्रों यही बात हमारे जीवन पर लागू होती है कामना-वासना रुपी बिल्ली अनावश्यक-अत्यधिक पूर्ती से कभी तृप्त न होगी। उस पर कठोरता से संयम करना होगा।
ध्यान दीजिये और सेवा अपनी आत्मा रुपी गाय की कीजिये जिससे आध्यात्मिक और भौतिक सफलता प्राप्त कर सकें।

जितनी आपकी उम्र है उतने मिनट कम से कम आपको ध्यान-साधना स्वाध्याय में अवश्य लगाना चाहिए निज आत्मा की सेवा और उत्थान के लिए…!!

Print Friendly

About author

Vijay Gupta
Vijay Gupta1097 posts

State Awardee, Global Winner

You might also like

Motivational Stories0 Comments

ਦਸ਼ਾ ਤੇ ਦਿਸ਼ਾ ਬਦਲਣ ਵਾਲੇ ਪਲ

ਮੇਰੇ ਤਾੜ-ਤਾੜ ਥੱਪੜ ਵੱਜੇ। ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੀ ਗੂੰਜ ਅੱਜ ਵੀ ਮੇਰੀ ਆਤਮਾ ਸੁਣ ਸਕਦੀ ਹੈ। 1960 ਵਿਚ ਭਰ ਗਰੀਬੀ ਦੇ ਦਿਨਾਂ ਦੌਰਾਨ ਕਾਨਿਆਂ ਦੀ ਛਪਰੀ ਵਿਚ ਬੈਠੇ ਸੀ। ਮੇਰੀ ਮਾਂ ਨੇ


Print Friendly
Motivational Stories0 Comments

Worlds 8 superb motivational sentences

Shakespeare : Never play with the feelings of others because you may win the game but the risk is that you will surely lose the person for a life time.


Print Friendly
Motivational Stories0 Comments

ਵਿਚਾਰਾਂ ਦਾ ਡਾਕੀਆ !!!

ਹਾਂ! ਮੈਂ ਡਾਕੀਆ ਹਾਂ. ਪਰ ਮੈਂ ਚਿੱਠੀਆਂ ਨਹੀਂ …ਗਿਆਨ ਵੰਡਦਾ ਹਾਂ.. ਮੈਂ ਹਰ ਵੇਲੇ ਆਪਣੇ ਬੱਚਿਆਂ ਵਿੱਚ ਮਸ਼ਗੂਲ ਰਹਿੰਦਾ ਹਾਂ.. ਜ਼ੁਬਾਨ ਦਾ ਹਾਂ ਕੌੜਾ ਜ਼ਰੂਰ.. ਸੁਭਾਅ ਦਾ ਵੀ ਭੈੜਾ ਹੋ


Print Friendly